Browse By

जानिए हरियाणा के हिसार में स्थित दरगाह चार क़ुतुब के बारे में जानकारी

हिसार एक शहर, जो पश्चिमोत्तर हरियाणा राज्य, पश्चिमोत्तर भारत में पश्चिमी यमुना नहर की हांसी शाखा पर स्थित है। इसकी स्थापना तुग़लक़ शासक फ़िरोज़ शाह तुग़लक़ ने की थी। प्राचीन समय में यहाँ कई आदिवासी जातियाँ रहा करती थीं। हिसार हरियाणा राज्य के पर्यटन के लिए एक आकर्षक स्‍थल है। पर्यटक यहाँ पर कई ख़ूबसूरत स्थलों की सैर कर सकते हैं। आज हम आपको हिसार के निकट हांसी में स्थित दरगाह चार क़ुतुब के बारे में बतायेगें

दरगाह चार क़ुतुब

दरगाह चार कुतब, या चार प्रख्यात सूफी संतों का मकबरा, हिसार के निकट हांसी में स्थित है। शब्द ‘कुतब’ जो एक पुण्य व्यक्ति के लिए है जो अन्य लोगों के लिए एक आदर्श होता है। इसका नाम चार सूफी संतों के नाम पर रखा गया है। यहाँ पर उनकी दरगाह भी बनी हुई हैं।

इनके नाम जमालउद्दीन हांसी, बुरहनउद्दीन, क़ुतुबुद्दीन मुनावर और नूरूद्दीन हैं। इन चारों संतों ने अपने जीवन के अंतिम दिन यहीं पर बिताए थे। उस अवधी के कई मुस्लिम व्यक्तियों के मकबरे भी दरगाह में है जैसे मेंमीर आलम, बेगम स्किनर और मीर तिजारह आदि हैं

दरगाह चार क़ुतुब की मुख्यबातें

दरगाह चार क़ुतुब हरियाणा के हिसार शहर में स्थित है।

इस मस्जिद का निर्माण फ़िरोज़शाह तुग़लक़ ने कराया था।

इसका नाम चार सूफी संतों के नाम पर रखा गया है। यहाँ पर उनकी दरगाह भी बनी हुई हैं। इनके नाम जमालउद्दीन हांसी, बुरहनउद्दीन, क़ुतुबुद्दीन मुनावर और नूरूद्दीन हैं। इन चारों संतों ने अपने जीवन के अंतिम दिन यहीं पर बिताए थे।

संतों की दरगाहों के अलावा पर्यटक यहाँ पर मस्जिद भी देख सकते हैं।

दरगाह चार क़ुतुब का इतिहास

शुरू में मकबरे शहर की एक छोटी सी मस्जिद के निकट स्थित थे, लेकिन बाद में फिरोज शाह तुगलक ने दरगाह के उत्तरी किनारे पर एक बड़ी मस्जिद बनवाई थी। यह माना जाता है की प्रख्यात सूफी संत बाबा फरीद यहां प्रार्थना और ध्यान करते थे इसलिए इस जगह पर स्मारक का निर्माण किया गया था।

पता : सैनीयन मंडी रोड़, मंडी सैनीयान, हांसी, हरियाणा

टाइमिंग : दरगाह 24 घंटे खुली रहती है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *